भारतीय वायु सेना को मिला पहला बोइंग सी-17 विमान

वाशिंगटन। भारतीय वायु सेना को पहला सामरिक परिवहन विमान बोइंग सी-17 ग्लोबमास्टर तृतीय प्राप्त हो गया है। वह इस प्रमुख परिवहन विमान का संचालन करने वाला सबसे नया देश बन गया है।

असिस्टेंट चीफ ऑफ एयर स्टाफ ऑपरेशंस [परिवहन एवं हेलीकॉप्टर] एयर वाइस मार्शल एसआरके नायर ने बताया, 'सी-17 के आ जाने से भारतीय वायु सेना विश्व में सबसे उन्नत मानवीय और सामरिक क्षमता रखने वाली सेनाओं की श्रेणी में आ गई है।' बोइंग कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इस वर्ष भारतीय वायु सेना को चार और सी-17 विमान दिए जाने की तैयारी है। अगले वर्ष उसे पांच सी-17 विमान दिए जाएंगे। बुधवार को कैलिफोर्निया के एडवर्ड वायु सैनिक अड्डे पर उड़ान का परीक्षण पूरा करने के बाद पहला सी-17 विमान भारत को सौंप दिया गया।

बोइंग के एक शीर्ष अधिकारी टॉमी डूनह्यू ने कहा, 'भारत सी-17 का संचालन करने वाले समुदाय में शामिल हो गया है और इसके लिए भारतीय वायु सेना को बधाई।' उन्होंने कहा कि आपदा राहत और सैनिकों को एक स्थान के दूसरे स्थान तक ले जाने व कई अन्य कार्यो के लिए सी-17 का प्रयोग किया जा सकता है। इससे भारतीय वायु सेना की हवाई परिवहन क्षमता बढ़ेगी।

2016 तक राफेल विमानों की पहली खेप मिलने की उम्मीद

पेरिस। फ्रांस को उम्मीद है कि 2016 या 2017 तक वही भारत को राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप सौंप देगा। अखबार लेस इकोस ने फ्रांसीसी रक्षा मंत्री जीन-युव्स ली ड्रिअन के हवाले से यह बात कही है। उसके मुताबिक ड्रिअन इस अनुबंध को लेकर बातचीत करने दिल्ली जाने वाले हैं। भारत 126 राफेल विमान हासिल करने के लिए फ्रांस से बात कर रहा है।