मेहनत करिए, सफलता मिलेगी: पल्लवी

नई दिल्ली। 23 साल की छोटी उम्र में चार्टर्ड अकाउंटेंट, कॉस्ट अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी की परीक्षा पास कर देश की शायद पहली छात्रा बनने वाली पल्लवी सचदेवा से अभिनव उपाध्याय की बातचीत।

इस परीक्षा की तैयारी कैसे करती थीं?

जब मैंने यह ठान लिया कि यह मुझे करना है तब मैंने उसे जुनून के साथ किया। इन दिनों में मेरा अधिकतर समय पढ़ाई पर जाता था। मैं सुबह जल्दी उठकर पढ़ाई करती थी और देर रात तक पढ़ती थी। मैंने कोशिश की कि मैं हर बिंदु को ध्यान से पढूं।

तीनों महत्वपूर्ण परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने का अनुभव कैसा रहा?

यह मेरे लिए रोमांचक था। लेकिन मैं इसका श्रेय तीनों संस्थानों को देना चाहती हूं जहां से मैंने पढ़ाई की।

आपका आदर्श कौन हैं?

चंदा कोचर मेरी आदर्श हैं। मैं उनसे प्रभावित और प्रेरित हूं।

आपकी पारिवारिक पृष्ठ भूमि क्या है?

मेरे पिता एक वकील हैं। और मां अर्थशास्त्र से एमए हैं। वह गृहणी हैं।

इस सफलता का श्रेय आप किसे देना चाहेंगी?

इस सफलता का पहला श्रेय मैं अपने स्कूल, अध्यापक को देना चाहूंगी जिसने मुझे इस योग्य बनाया।

एक मजबूत नींव प्रदान की। साथ ही उन लोगों को जिन्होंने मेरा पेशेवर मार्ग दर्शन किया। साथ ही अपने परिवार और भाई को जिनसे हमें लगातार प्रोत्साहन मिलता रहा।

जो लोग इस परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं उनके लिए क्या संदेश देना चाहेंगी?

उन लोगों से मेरा यही कहना है कि पढ़ाई को कभी घंटों में मत बांधो यह सफलता का उपाय नहीं है। जो भी करो जुनून के साथ करो। मैं दावे के साथ कह सकती हूं सफलता तुम्हारे पीछे भागेगी।