मध्य एशिया पर भारत और चीन में पहली बार बातचीत

बीजिंग। भारत और चीन के लिए रणनीतिक लिहाज से महत्वपूर्ण मध्य एशिया पर दोनो देशों के बीच पहली बार आधिकारिक बातचीत हुई।

यहां भारतीय दूतावास की ओर से बुधवार को जारी एक बयान में बताया गया है कि दोनों देशों के बीच मध्य एशिया से संबंधित आतंकवाद, क्षेत्रीय और ऊर्जा सुरक्षा जैसे अहम मसलों पर चर्चा हुई। दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों ने मध्य एशिया की मौजूदा स्थिति पर विस्तृत बातचीत की। यह वार्ता भारत और चीन के मध्य एशियाई देशों के साथ उनके समान रूप से राजनीतिक और आर्थिक संबंधों पर केंद्रित रही। चीन ने अपने मध्य एशिया केंद्रित दृष्टिकोण से भारतीय प्रतिनिधिमंडल को अवगत कराया तो भारत ने भी 'कनेक्ट सेंट्रल एशिया' नीति की विस्तार से उन्हें जानकारी दी। दोनों देशों के मध्य एशिया के साथ गहरे संबंध हैं और विदेश नीति में यह क्षेत्र उनके लिए प्राथमिकता के दायरे में आता है। दोनों देशों के अधिकारियों ने खासतौर से अफगानिस्तान मुद्दे पर भी चर्चा की। अगले वर्ष अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद इस देश में फिर से तालिबान के सिर उठाने की चिंताओं के मद्देनजर यह वार्ता काफी अहम मानी जा रही है। यह वार्ता इस लिहाज से भी काफी महत्वपूर्ण है कि हाल में लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ की घटनाओं के बाद दोनों देशों में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी।